Translate

Contact Me

 LinkedinFacebookFacebookFlickrTwitterSlideshare Google Buzz

अभिलेखागार

श्रेणीबद्ध करके

स्वाभाविक रबड् और नारियल उत्पन्न् की दामसूचक

एक विश्वविद्यालय के दूसरे दर्जे की कर्मचारी को केरल में सन. 1983 में 675 रुपये बेसिक धनका और 122 रुपये डी.ए मिलाकर 797 रुपये थे। 25 साल के बाद सन. 2008 में बेसिक धनका 7990 रुपये और डी.ए 3036 रुपये मिलाकर 11,026 रुपये बन गये। इसका मतलब धनका 13.83 गुणा बड चुके हैँ। HRA, […]

यह पोस्ट हिन्दी में उपलब्ध नही है

चूहे को मारने केलिये केरल में कृषि उद्योग और स्वास्य विभाग की कर्मचारियो ने ऐॅये जहर मुफ्त में आम जनता को दे रहे है। परंतू इसका मूल्य वेयर हौसिंग कोरप्परेषन को उपल्द किया गयाहैं। लाल रंग की कठिन जहर की निशान के साथ अपने पर्यावरण को बर्बाद कर रहे हैं।

[…]

एस.बी.टी मानेजरों को सिखाया

स्टेट बेंक ओफ ड्रावनकोर की मुख्य कार्यालय में 24 मानेजरों को 30-11-2015 में रबड् साँख्यिकी की विश्लेषण एक प्रसन्टेषन के रूप में स्क्रीन पर प्रदर्शित करके पढाने का मौका मिला। प्रसन्टेषन पर जहां से आँकडे इकडे किया उस के लिंक (Link) उपलब्द हैं। अंतिम स्लैड पर बहूत ही समाचार या विश्लेषण की […]

रबड् बोर्ड के खिलाफ ऱबड् किसान

[…]