Translate

Contact Me

 LinkedinFacebookFacebookFlickrTwitterSlideshare Google Buzz

अभिलेखागार

श्रेणीबद्ध करके

स्वाभाविक रबड् की दाम गिरने की कारण

प्राकृतिक रबर का मूल्य ऊँचा नीचा होना
विश्व व्यापार संगठन अंतर्राष्ट्रीय व्यापार नीतियों के निर्माण के लिए एक अंतर्राष्ट्रीय संगठन है। जीएटीटी (GATT) 1 जनवरी, 1948 को बनाया गया था और 1 जनवरी, 1995 को विश्व व्यापार संगठन बन गया। 1995 में भारत ने टैरिफ और व्यापार पर सामान्य समझौते पर हस्ताक्षर किए। 1995-96 में, अगर प्राकृतिक रबर की खपत और निर्यात से उत्पादन घटाने पर 19685 टन की आवश्यकता था। लेकिन आयात 51635 टन आयात किया और 31950 टन जरूरत से ज्यादा आयात की गई। 1995-96 में पिछले वर्ष के बचत भंण्टार 69550 टन, आयात 31950 टन और 1690 टन जो स्टॉक नहीं है वह भी शामिल करते हुए पहली बार बचत भण्टार एक लाख से अधिक करके 103190 टन तक बढ़ाया गया था।आरएसएस 4 को पिछले वर्षों की तुलना में 5204 रुपये अधिक उपलब्ध कराया। 2001-02 तक 160528 टण अधिक आयात करके कीमत धीरे-धीरे घटाकर 4901, 3580, 2994, 3099, 3036, 3228 तक क्रम में हो चुका था।जब कीमत ज्यादा गिर गई, तो रबर बोर्ड ने सितंबर 2001 में सरकार की घोषणा की अनुसार आरएसएस 4 के लिए न्यूनतम शुल्क 34.05 रुपये प्रति किलोग्राम प्रसारित किया।1995-96 में खपत 525465 टण उत्पादन 506910 टण था वह 2001-02 में खपत 638210 टण उत्पादन 631400 टण तक बढ़ी हुई। 1995-96 से लेकर 2001-02 तक मूल्य गिराने की कोशिश की गई।

2002-03 में, खपत और निर्यात जोडकर उससे उत्पादन कम करने पर मांग 101301 टन थी। 26217 टन आयात करके 75084 टन आयात को झोड दी जो कर सकता था। पिझले साल का बचत भण्डार 193070 टन से 2002-03 में घटकर 1,3995 टन रह गया। अगले वर्ष बचत भण्डार फिर से घटाकर 85190 टन कर दिया गया। 2002-03 से 2010-11 तक 86517 टण जरूरत से अधिक आयात करके 288300 टन बचत भण्डार हो गया है। प्रति क्विन्टल मूल्य 3919, 5040, 5571, 6699, 9204, 9085, 10112, 11498, 19003 क्रम में बड गया। 2002-03 में खपत 695425 टन और उत्पादन 649435 टन था जो 2010-11 में खपत 947715 टन और उत्पादन 861950 टन तक हो गया। 2002-03 से 2010-11 तक कीमतें बढ़ले से रोकने की कोशिशें हुईं।

2011-12 में शुरू होने वाले अतिरिक्त आयातों का प्रभाव, कोरोना के बाद भी झोडता नहीं। 2011-12 में, अगर खपत और निर्यात जोडकर उस से उत्पादन कम करने पर कमी 87860 टन थी। अतिरिक्त आयात 214433 टन की हुआ और जरूरत से अधिक आयात 126573 टण का था। अगर पिछले साल बचत भण्डार 288300 टन के याथ अधिक आयात 126573 जोडने से बचत भण्टार 414873 टन होगी। लेकिन रबर बोर्ड ने 178598 टन कम करके बचत भण्टार 236275 टन के रूप में प्रकाशित किया। इस प्रकार 2017-18 तक 636055 टन अतिरिक्त आयात करके क्रमशः 156429, 155345, 58218, 53094, 12193,18478 बचत भण्डार हर साल कम करके प्रकाशित की। 2011-12 से 2018-19 तक कीमतें क्रमशः 20805, 17682, 16602, 13257, 11306, 13549, 12980, 12595 थीं, जबकि खपत 964415 टन से बढ़कर 1211940 टन हो गई और उत्पादन 909000 टन से घटकर 651000 टन हो गया। 2013-14 में जॉय अब्राहम सांसद द्वारा राज्यसभा में उठाए गए एक सवाल के जवाब में, खपत से उत्पादन कम करने पर असली अनुमानित कमी 137520 टन के जगह पर 207520 टन अनुमानित कमी है करके जवाब दिया। 70000 टन त्रुटि को ठीक करने के लिए, दो-सदस्यीय आयोग ने 884,000 टन उत्पादन से घटाकर 774,000 टन कर दिया।2013-14 में टेप करने योग्य क्षेत्र 518100 हेक्टेयर था और टेप किया गया क्षेत्र 475200 हेक्टेयर था। 2018-19 में टेप करने योग्य क्षेत्र 640000 हेक्टेयर था और टेप किया गया क्षेत्र 448000 हेक्टेयर था। रबड़ बोर्ड 2019-20 में जो टेप नहीं हो रहा थ वैसे रबर प्लांटेशन को अपनाने के साथ 7.15 लाख टन का उत्पादन बडाया। अप्रैल 2019 में डॉ. के.एन राघवन आईआरएस के कार्यकारी निदेशक के रूप में पदभार संभालने के बाद 2018-19 के बचत भण्डार के साथ अतिरिक्त आयात जोड़कर आपूर्ति और मांग को बराबर करके प्रकाशित किया। इस तथ्य के कारण संभव है कि 2019-20 में आयात घटकर 4.5 लाख टन रह गया, क्योंकि पिछले वर्षों में अधिक आयात बचत भण्डार के साथ जोडा गया था। इस बीच राज्य सरकार @ 150 प्रोत्साहन मूल्य लागू किया गया था। 2016-17 से उत्पादन में मामूली वृद्धि हुई। इसका लाभ भी निर्माताओं को ही मिला। 2011-12 से कीमतों में गिरावट जारी है। कोरोना मूल्य गिराकर अपनी गति बढ़ाने में सफल रहा।

इसके अलावा, निर्माताओं की सहायता के लिए कई अनुबंधों पर हस्ताक्षर किए गए हैं। ऑटो टायर मैन्युफैक्चरर्स एसोसिएशन ने घोषणा की है कि कितने लाभ इन हस्ताक्षरें से उपलब्ध हैं। यह अभी उनकी साइट पर उपलब्ध नहीं है।

उपरोक्त आंकड़ों से, यह देखा जा सकता है कि किस प्रकार रबर बोर्ड ने टायर निर्माताओं की मदद के लिए रबर की कीमत को कम करने में मदद की है और किसानों को प्रभावित किया है।

यह परिभाषा मलयालम से गूगिल ड्रान्सलेट की जरिये करने के बाद लेखक को ठीक करना पडा।

Arithmetical error to help whom?


Read More >>> ERROR

7 वीं शिकायत

Grievance DOCOM/E/2020/00010 dt 04-01-2020 submitted

हालांकि पीजीपोर्टल में छठी शिकायतें दर्ज की गई हैं, लेकिन समस्या पूरी तरह से हल नहीं हुई है। इसलिए सातवी शिकायत दर्ज की थी। परंतू जो शक दर्ज की थी उस के सिवाय कुच्छ और जवाब देकर मुह बंद करने की कोशिस की।

क्या यही शक था?

I send an Email to [email protected], exedir <[email protected]> as follows.

Sir/Madam,

My grievance filed in PGPortal was about the error % from 2011-12 to 2015-16. Unfortunately gave a reply for the year 2016-17 and 2017-18 with low error %.

I request you to agree the mistakes done by S and P department which was above allowable limit.

The reply received from Secretary below as PDF.

रबड् वृक्ष पर लाटेक्स बंद होने पर इलाज

 

रबड् वृक्ष पर लाटक्स बंद होने पर इलाज (अंग्रेजी में)

मेरा चानल सब्स्क्रैब करें

मेरा चानल सब्स्क्रै करें