Translate

Contact Me

 LinkedinFacebookFacebookFlickrTwitterSlideshare Google Buzz

अभिलेखागार

श्रेणीबद्ध करके

रबर बोर्ड की जवाब

10-02-2019 को पि.जी पोर्टल   की जरिये DOCOM/E/2019/00176 एक शिकायत दर्ज की थी। शिकायत एक यु.आर.एल  था।वह शिकायत मिनिस्ट्री ऑफ कोमेऴ्स आन्ट इनडस्ट्री ने रबड्बोर्ट की एक्सिक्यूटीव डयरक्टर को भेजी।  2019 मार्च महीने  6 तारिक को दी गई जवाब नीचे दिया हुआ हैं। गलत आँकडे प्रसारित करके मजदूर, रबड् की खेती करनेवाले किसान, छोटे व्यापारी और छोटे निर्माताओं तो लूटकर बडे निर्माताओं की मदद कर रहे हैं।  अगर 2004-05 से लेकर  2009-10 तक जैसे बचत भंडार को ज्यादा करके दिखाया उसी प्रकार 2010-11 के बाद में भी जारी रखने से अब की हालात नहीं होना था। शुरू की भंडार, उत्पादन, आयात मिलाने पर जो लभ्यता होगी उससे उपभोग, निर्यात ऐर बचत भंडार खटाने से टली नहां होगा। जो हेरा भेरी से आयात बडाकर देशी और अंतरराष्ट्रीय दाम गिराकर बडे निर्माते ज्यादा मुनाफा हासिल कर रहा हैं।

2010-11 से लेकर  असली लभ्यता को कम करके दिखाकर ज्यादा से ज्यादा आयात की मौका बनाकर दे दी। राज्यसभा में श्री जोय अब्रहाँ एं.पी को  2013-14 की  दीगई कमी की अनुमान गलत था।  उस  कमी की अनुमान  दुरुस्त करने केलिये दो सदस्य वाले कमिटी की बैटक 844000 टण की उतपादन को 774000 टण कराकर दुरुस्त किया।

सत्यमेव जयते